google-site-verification: google9e57889f526bc210.html

Ayodhya Ram Mandir : राम मंदिर का नाम सुनते ही क्यों भावुक हो गए अघोरी बाबा? राम जन्म भूमि पर आँखों से छलका दर्द

Ayodhya Ram Mandir : राम मंदिर का नाम सुनते ही क्यों भावुक हो गए अघोरी बाबा? राम जन्म भूमि पर आँखों से छलका दर्द

Ayodhya Ram Mandir : अघोरी बाबा एक ऐसे संत हैं जो अघोर साधनाओं के लिए प्रसिद्ध हैं। वे अक्सर अयोध्या आते हैं और राम मंदिर के निर्माण में अपना योगदान देते हैं।

एक बार, अघोरी बाबा अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण कार्य का निरीक्षण कर रहे थे। तभी, एक पत्रकार ने उनसे पूछा कि “राम मंदिर का नाम सुनते ही आप भावुक क्यों हो जाते हैं?”

इस सवाल के जवाब में, अघोरी बाबा ने कहा, “राम मंदिर हमारे लिए आस्था का प्रतीक है। यह हमारे धर्म और संस्कृति की पहचान है। राम मंदिर का निर्माण होने से हमें यह विश्वास होता है कि हमारा धर्म और संस्कृति सुरक्षित है।”

Ayodhya Ram Mandir

उन्होंने आगे कहा, “राम मंदिर का निर्माण एक ऐतिहासिक घटना है। यह हमारे देश की एकता और अखंडता का प्रतीक है। राम मंदिर के निर्माण से हमारा देश फिर से एकजुट हो जाएगा।”

Ayodhya Ram Mandir
Ayodhya Ram Mandir

अघोरी बाबा के अनुसार, राम मंदिर का निर्माण एक आध्यात्मिक घटना भी है। यह हमारे देश की आध्यात्मिक चेतना को जागृत करेगा। राम मंदिर के निर्माण से हमारे देश में शांति और समृद्धि आएगी।

अघोरी बाबा का मानना है कि राम मंदिर का निर्माण एक ऐसा कार्य है जो सभी भारतीयों को एक साथ ला सकता है। यह कार्य हमें एक राष्ट्र के रूप में एकजुट कर सकता है।

कुल मिलाकर, अघोरी बाबा राम मंदिर का नाम सुनते ही भावुक हो जाते हैं क्योंकि राम मंदिर उनके लिए आस्था, एकता, अखंडता और आध्यात्मिकता का प्रतीक है।

Ayodhya Ram Mandir
Ayodhya Ram Mandir

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए समर्पण निधि अभियान के दौरान एक अघोरी बाबा को राम मंदिर का नाम सुनते ही भावुक हो गए। वे रोने लगे और कहा कि उन्होंने अपना जीवन भगवान राम की भक्ति में बिताया है। उन्होंने हमेशा से राम मंदिर के निर्माण का सपना देखा था।

इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। वीडियो में अघोरी बाबा को रोते हुए देखा जा सकता है। वे कहते हैं, “मैंने अपना जीवन राम की भक्ति में बिताया है। मैंने हमेशा से राम मंदिर के निर्माण का सपना देखा था। आज मेरा सपना पूरा हो गया है। मैं बहुत खुश हूं।”

Ayodhya Ram Mandir के लिए अघोरी बाबा हुए भावुक

अघोरी बाबा के भावुक होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। एक कारण यह हो सकता है कि वे भगवान राम के प्रति अपनी गहरी आस्था और भक्ति के कारण भावुक हुए। वे राम मंदिर के निर्माण को भगवान राम की इच्छा का प्रतीक मानते हैं।

Ayodhya Ram Mandir
Ayodhya Ram Mandir

दूसरा कारण यह हो सकता है कि वे राम मंदिर के निर्माण के लिए किए गए प्रयासों और त्यागों के प्रति सम्मान व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने देखा होगा कि लाखों लोगों ने राम मंदिर के निर्माण के लिए अपनी मेहनत, पैसा और समय दिया।

तीसरा कारण यह भी हो सकता है कि वे राम मंदिर के निर्माण से भारत में होने वाले सामाजिक और धार्मिक परिवर्तनों के बारे में सोच रहे थे। वे मानते थे कि राम मंदिर का निर्माण भारत में हिंदू धर्म और संस्कृति को पुनर्जीवित करेगा।

अघोरी बाबा के भावुक होने की घटना एक महत्वपूर्ण क्षण थी। यह दिखाता है कि राम मंदिर का निर्माण भारत के लिए एक महत्वपूर्ण घटना है। यह एक ऐसी घटना है जो लोगों की आस्था, भक्ति और एकता को मजबूत करेगी।

राम मंदिर का निर्माण भारत के लिए एक ऐतिहासिक घटना है। यह घटना भारत की संस्कृति और सभ्यता के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। यह दिखाता है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है जहां सभी धर्मों के लोगों को समान अधिकार और सम्मान दिया जाता है।

Ayodhya Ram Mandir
Ayodhya Ram Mandir

अघोरी बाबा का राम मंदिर के प्रति प्रेम और भक्ति किसी से छिपी नहीं है। वह राम मंदिर के निर्माण के लिए कई वर्षों से संघर्ष कर रहे थे। जब उन्हें समर्पण निधि अभियान के बारे में पता चला, तो उन्होंने तुरंत अपना दान दिया।

बाबा अयोध्या में ही रहते हैं और अक्सर मंदिरों में जाकर भगवान राम की पूजा करते हैं। वह रामायण के पात्रों से भी बहुत प्रभावित हैं। वह रामायण की कथाओं को सुनना और पढ़ना पसंद करते हैं।

बाबा के राम मंदिर के प्रति प्रेम और भक्ति से पता चलता है कि भगवान राम सभी के लिए समान रूप से पूजनीय हैं। चाहे वह किसी भी जाति, धर्म या वर्ग का हो, वह भगवान राम का भक्त हो सकता है।

यह भी पढ़े:

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *